सुंदरनगर में नामधारी संगत के द्वारा आज नगर कीर्तन और शोभायात्रा निकाली गई !

0
321
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

प्राचीन भारत और नेपाल में पूरे साल को जिन छह मौसमों में बाँटा जाता था उनमें वसंत लोगों का सबसे मनचाहा मौसम था। जब फूलों पर बहार आ जाती, खेतों में सरसों का फूल मानो सोना चमकने लगता, जौ और गेहूँ की बालियाँ खिलने लगतीं, आमों के पेड़ों पर मांजर आ जाता और हर तरफ़ रंग-बिरंगी तितलियाँ मँडराने लगतीं। भर भर भंवरे भंवराने लगते। वसंत ऋतु का स्वागत करने के लिए माघ महीने के पाँचवे दिन एक बड़ा जश्न मनाया जाता था जिसमें विष्णु और कामदेव की पूजा होती हैं। यह वसंत पंचमी का त्यौहार कहलाता था। शास्त्रों में बसंत पंचमी को ऋषि पंचमी से उल्लेखित किया गया है, तो पुराणों-शास्त्रों तथा अनेक काव्यग्रंथों में भी अलग-अलग ढंग से इसका चित्रण मिलता है।  

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

इसी कड़ी में इसी कड़ी में सुंदरनगर में नामधारी संगत के द्वारा आज नगर कीर्तन और शोभायात्रा निकाली गई जो भोजपुर होते हुए बस स्टैंड तक निकाली गई इस शोभायात्रा में प्रबुद्ध शहर के लोगों ने भाग लिया इस सभा में हिंदू समाज और नामधारी समाज खत्री सभा विश्व हिंदू परिषद के गणमान्य लोगों ने इस कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर भाग लिया

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखधर्मपुर ! प्रकाश चंद तीसरी बार बने धर्मपुर कांग्रेस के अध्यक्ष।
अगला लेखबिलासपुर ! पुलिस ने 2 लोगों को चरस व चिट्टे के साथ गिरफ्तार किया !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें