शिमला । लाखों पेंशन धारकों की झोली खाली – नहीं मिल पाई सामाजिक सुरक्षा पेंशन; करना होगा इंतजार ।

0
1725
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

शिमला । राज्य सरकार के दावों के विपरीत सामाजिक सुरक्षा पेंशन धारकों को उनकी पेंशन समय पर नहीं मिल पाई है। सरकार ने कहा था कि पेंशन धारकों को पहली अप्रैल से पेंशन मिलनी शुरू हो जाएगी, मगर हैरानी की बात है कि अभी तक लोगों को पेंशन उनके बैंक खातों में नहीं आई। मात्र कुछ लोगों को ही पेंशन मिल पाई है।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

हालांकि सरकार ने 30 मार्च को ही बैंकों को पैसा रिलीज कर दिए जाने की बात कही थी, मगर अभी तक बैंकों से पेंशन की अदायगी नहीं होने से बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। खासकर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के बैंकों में लोगों को पेंशन नहीं मिली है। दो अप्रैल को बैंकों में अवकाश होने के कारण तीन अप्रैल को बड़ी संख्या में लोग बैंकों में पहुंचे, जिनको वहां से निराशा हाथ लगी।

गांवों में बैंक प्रबंधकों ने पेंशन नहीं आने की बात कही और साथ ही यह भी कहा कि अभी इसमें समय लगेगा। एक तरफ लॉकडाउन के इस दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे देश में उन जरूरतमंद लोगों की त्वरित मदद की बात कर रहे हैं, जिनका गुजारा मुश्किल से होता है, मगर यहां उनके दावों पर तत्परता से काम नहीं किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार वित्त विभाग ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग से इस संबंध में जानकारी मांगी है, क्योंकि उनको पेंशन जारी करने के निर्देश दे दिए गए थे।

आला अधिकारियों ने माना कि अभी बैंकों द्वारा पेंशन की अदायगी नहीं की जा सकी है, जिस पर जानकारी ली जा रही है। वहीं वित्त विभाग ने इसकी जानकारी जुटाकर चरणबद्ध ढंग से पेंशन अदायगी करने की बात कही है। सरकार ने तीन महीने की सामाजिक सुरक्षा पेंशन देने के लिए बजट जारी किया है, जो शायद बैंकों तक नहीं पहुंच पाया है, तभी सामाजिक सुरक्षा पेंशन जारी नहीं हुई। ऐसा इसलिए भी हो सकता है, क्योंकि सभी सरकारी कार्यालय बंद पड़े हैं, लिहाजा सही समय पर व्यवस्था नहीं हो सकी है। यही एक बड़ा कारण भी है कि समय पर पेंशन नहीं मिली है। अब आने वाले कुछ दिनों में इसे जारी कर दिया जाएगा।
तीन महीने की पेंशन देने का किया है ऐलान ।।
हिमाचल सरकार को भी इस संबंध में अभी पूरी जानकारी नहीं है कि आखिर बैंकों से डिसबर्समेंट क्यों नहीं हुआ है। सरकार ने तीन-तीन महीने की सामाजिक सुरक्षा पेंशन एक साथ देने की बात कही है। राज्य में ऐसे लाखों पेंशनधारक हैं, जिनको पेंशन दी जा रही है। कर्फ्यू के इस दौरान में बुजुर्ग लोगों का बैंकों तक जाना मुश्किल है, क्योंकि वाहन ले जाने की किसी को इजाजत नहीं। ऐसे में जो पैदल भी बैंकों तक पहुंचे रहे हैं, उनको निराश होकर लौटना पड़ रहा है।

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखशिमला । 04 अप्रैल 2020 के फल और सब्जियों के दाम ।
अगला लेखमंडी में 04 अप्रैल 2020 के लिए फल व सब्जियों के दाम !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें