चम्बा ! 2006-08 बैच के जेबीटी हुए केन्द्रीय अधिसूचना को लेकर एकजुट ! 

0
909
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

चम्बा ,09 दिसंबर ! आज़ जिला मुख्यालय चम्बा में 2006-08 बैच के जे बी टी अध्यापक इक्कठे हुए और अपनी मांगों को लेकर एक बैठक की l बैठक का मुख्य उद्देश्य विभाग द्वारा माँगी गयी सूचना के सन्दर्भ में था l विभाग द्वारा 15/05/2003 से पहले अधिसूचित पदों जिनकी नियुक्ति 15/05/2003 के बाद हुई और वो उक्त अधिसूचना में आते हैं उसके बारे में ये बैठक थी ।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

मीडिया को संबोधित करते हुए जे बी टी अध्यापक सुनील जरियाल ने बताया कि उनका बैच 2002 की अधिसूचना के अनुसार लगा है और उनके पद 2002 के विज्ञापित थे । 2002 में जो टेस्ट हुआ था सरकार बदलते ही उक्त टेस्ट को रद्द करके काँग्रेस सरकार ने नया टेस्ट लिया और पदों को बढ़ाया गया । उक्त टेस्ट को भी बाद में रद्द करके तीसरी बार टेस्ट लिया गया और अंतिम चयन के बाद वो भी कोर्ट में चैलेंज हुआ जो वर्ष 2006 में हल हुआ जिसके बाद उनका बैच शुरू हुआ और 2009 में उनकी रेगुलर नौकरी लगी जोकि पुराने भर्ती एवं पदोन्नति नियमों के अनुसार ही लगी थीं ।

उक्त अधिसूचना से कर्मचारियों का NSDL के पास जमा पैसा वापिस मिलने की कर्मचारियों में उम्मीद जगी है । इस अधिसूचना से प्रदेश सरकार और कर्मचारियों के लगभग 250 करोड़ रुपये वापिस आएँगे और कर्मचारियों और सरकार दोनों को इस से लाभ होगा । कर्मचारियों को उनका पैसा एकमुश्त मिल जाएगा और सरकारी पैसा सरकार को मिल जाएगा l सुनील ने बताया कि ज़िला चंबा के 190 जे बी टी अध्यापक जोकि उनके बैच से संबंधित हैं और वो इस अधिसूचना के लाभार्थी हैं l आज़ की बैठक में 70 लाभार्थी अध्यापकों ने भाग लिया और जल्द बी ई ई ओ के माध्यम से उक्त डाटा जिला उप निदेशक कार्यालय को भिजवाने बारे चर्चा की गई l आज़ की बैठक में निम्न कर्मचारी साथी मौजूद रहे।

अनिल राकेश रविकांत देविन्दर विशाल विशाका शारदा हेम राज अशोक प्रमोद अनूप अजय रमेश परवीन नंद लाल मान सिंह प्रकाश राकेश राजीव विनोद सतपाल अजय दिनेश ठाकुर सिंह आदि उपस्थित रहे।

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

पिछला लेखशिमला ! आउटलुक ट्रैवलर अवार्ड्स-2023 में हिमाचल कोे दिए दो पुरस्कार ! 
अगला लेखशिमला ! स्पोर्ट्स एसोसिएशन की बैठक का आयोजन पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस सुन्नी में किया गया !