शिमला ! हिमाचल विधानसभा में आज भी हंगामा, जनमंच कार्यक्रम को लेकर सदन में उठा बवाल !

0
296
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

शिमला , 22 मार्च [ विशाल सूद ] ! हिमाचल प्रदेश विधानसभा बजट सत्र के सातवें दिन प्रश्नकाल के बाद सदन में पूर्व सरकार द्वारा चलाए जा रहे जनमंच कार्यक्रम को लेकर खूब बवाल हो गया। नेता विपक्ष जयराम ठाकुर ने कहा कि पूछा कि क्या वर्तमान सरकार इस कार्यक्रम को बंद कर रही है। उन्होने कार्यक्रम को बंद ना करने का मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू से आग्रह किया और कहा कि जनमंच एक लोकप्रिय कार्यक्रम है जिसमें लोगों की शिकायतों का मौके पर निपटारा होता है और लगभग 43,821 शिकायतों का पूर्व की भाजपा सरकार में इसके माध्यम से हल हुआ है।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

वर्तमान सरकार इसको बंद करके गलत परंपरा शुरु कर रही है जिस पर मंत्री जगत सिंह नेगी ने दखल देते हुए कहा कि जनमंच कार्यक्रम लंच मंच में तब्दील हो गया था और पूर्व की सरकार में 5 करोड़ रुपए टेंट और लंच में फूंक दिए और कार्यक्रम में अधिकारियों की खूब बेइजती भी होती रही है। इस बीच मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह ने कहा कि प्रदेश में नई सरकार बनी है और व्यवस्था परिवर्तन का दौर चल रहा है सरकार जन मंच कार्यक्रम की जगह कोई नया मंच लोगों की समस्याओं को लेकर आएगी जिसमें अधिकारियों को भी सम्मान दिया जाएगा और लोगों की समस्याओं का भी मौके पर निपटारा होगा। इसके बाद विपक्ष ने सदन में नारेबाजी शुरू कर दी और सदन की कार्यवाही को भी विधानसभा अध्यक्ष द्वारा 15 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया।

नेता विपक्ष जयराम ठाकुर ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश की सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार में बंद करने की जो प्रक्रिया शुरू हुई है वह खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। जनमंच जनता की समस्याओं को लेकर हिमाचल प्रदेश ही नहीं देशभर में विख्यात हुआ है और ऐसे में इस कार्यक्रम को बंद करना दुर्भाग्यपूर्ण है। मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू अपने नाम पर नई योजनाएं बनाने की गलत परंपरा शुरु कर रहे हैं और एक भेदभाव पूर्ण रवैया सरकार द्वारा अपनाया जा रहा है जिसका जनता में बहुत अधिक रोष है।

 

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

पिछला लेखशिमला ! भाजपा के जनमंच को विक्रमादित्य सिंह ने बताया झंडमंच !
अगला लेखसोलन ! बद्दी में कपडा बैंक का आगाज : जिसके पास अधिक है छोड जाये और जरूरत है तो ले जाए का दिया नारा !