भरमौर ! स्कूल में शिक्षकों की कमी के कारण हो रही बच्चों की पढ़ाई प्रभावित।

0
1335
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

चम्बा ! ग्राम पंचायत बलोठ के स्कूलों में शिक्षकों की कमी के कारण विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। लंबे समय से पंचायत के विभिन्न स्कूलों में शिक्षकों की तैनाती ना होने से लोग गांव छोड़कर पढ़ाई के लिए शहर की तरफ पलायन कर रहे हैं। ग्राम पंचायत प्रधान देवराज ने बताया कि पंचायत के उच्च पाठशाला ग्रोण्डी में बीते लंबे समय से स्कूल प्रभारी की तैनाती नहीं की गई है। स्कूल में हेडमास्टर का पद रिक्त होने से व्यवस्था सही नही हो पा रही है। वही अन्य शिक्षकों के पद भी नहीं भरे जा रहे हैं ,जिसके कारण विद्यार्थीयों की पढ़ाई लगातार प्रभावित हो रही है। उक्त क्षेत्र में पढ़ाई व्यवस्था को लेकर कई बार स्थानीय प्रशासन से गुहार लगाई गई है लेकिन अभी तक यहां स्टाफ तैनात नही किया गया है । स्थानीय प्रतिनिधि भी जनता की मांग को लेकर कोई कार्यवाही नहीं कर पा रहे हैं।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

जिसका जवाब जनता आने वाले समय में देगी उन्होंने बताया कि अगर यहां किसी शिक्षक के आर्डर जारी भी कर दिए जाते हैं तो वो जॉइनिंग नहीं करते हैं, जिससे आम जनता का मनोबल काफी गिर गया है। उन्होंने बताया कि जैसे उनको लगता है कि यहां लोग नहीं रहते हैं। शिक्षकों की कमी के कारण पढ़ाई अधूरी रह रही है जिसे पूरा करने के लिए लोग शहर में जाकर किराए के कमरे में रहने को मजबूर हैं ।उन्होंने चेतावनी व चुनौती देकर कहते हुए सरकार से मांग की है कि जिले में सर्वे करवाया जाए जिससे यह बात स्पष्ट होगी कि केवल ग्रामीण क्षेत्रों में ही शिक्षकों की कमी है जबकि शहरी क्षेत्र में किसी प्रकार की कोई समस्या स्टाफ के बारे में नहीं है। शहर के हर स्कूलों में चपरासी से लेकर स्कूल प्रभारी तक के पद भरे गए हैं, यहां तक की अगर शहर में कोई शिक्षक रिटायर होता है तो उसके स्थान पर पहले ही मिलीभक्ति से तैनाती के आर्डर जारी करने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में कई वर्षों तक खाली पदों को नहीं भरा जा रहा है, जो कि आने वाले समय में काफी चिंता का विषय है। उन्होंने बताया कि उनकी दूरदराज की पंचायत में ही शिक्षकों की कमी के कारण लोग अपने गांव से शहरों की ओर पलायन करने को मजबूर हो रहे हैं ।अगर यही सब रहा तो पूरा गांव खाली होने में भी देर नहीं लगेगी । जिसके लिए सरकार की गैर जिम्मेदाराना रवैया जिम्मेवार होगा। पढ़ाई पूरी ना करने के कारण बच्चे कैसे आने वाले समय में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करेंगे उनकी पंचायत में अभी से ही बेरोजगारी की समस्या सामने आ रही है। इसका मुख्य कारण पढ़ाई प्रभावित होना ही है।

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

पिछला लेखबद्दी ! नगर परिषद के सभी वार्ड के प्रवेश द्वारों पर लगाए जाएं सीसीटीवी कैमरे – रोहित मालपानी !
अगला लेख!! राशिफल 28 फरवरी 2021 रविवार !!