चम्बा ! चम्बा जिला के आम लोगों तक नहीं पंहुच पा रहा केंद्रीय स्तर की योजनाओं का लाभ !

0
377
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

चम्बा ! केंद्रीय स्तर की ऐसी योजनाए भी है जिसका लाभ चम्बा जिला के आम लोगों तक नहीं पंहुच रहा है। लोगों को इन योजनाओं के बारे मे जागरुक करने के लिए विभागीय अधिकारियों द्वारा भी कोताही बरती जा रही है। जिसका सीधा खामियाजा जिला के आम लोगों को उठाना पड़ रहा है। चंबा में अनौपचारिक ब्यान जारी करते हुए ब्लाक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष करतार सिंह ठाकुर ने कहा कि चंबा के जनप्रतिनिधि सही तरह से संचालित करवाने मे नाकाम रहे हैं।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

केंद्रीय कृषि मंत्रालय के सौजन्य से चंबा मे भी सचल मृदा जांच प्रयोगशाला अर्थात मोबाइल साॅइल टैस्टिंग लैब प्रदान की गई लेकिन आज दिन तक उसमें किए जाने वाली टैस्टिंग की प्रतिशत शुन्य ही रही है। मोबाइल साॅइल टैस्टिंग लैब वाहन पिछले दो वर्षों से चंबा के राजपूरा स्थित कृषि बीज विपणन केंद्र के प्रांगण मे धूल फांक रही है। उन्होने कहा कि यह बहुत ही हैरानी की बात है आधुनिक टैस्टिंग उपकरणों से सुसज्जित इस मोबाइल वैन के लिए सरकार द्वारा लगभग 80 लाख रूपये खर्च किए गए थे।

इसके लिए प्रशिक्षित चालक व साइल टैस्टिंग अटैन्डेट के पद भी भरे गए थे। लेकिन आज दिन तक चंबा मे न तो किसानों की जमीनों की टैस्टिंग हुईं है न ही टैस्टिंग वैन के प्रशिक्षित स्टाफ का ही कोई अता पता है। वहीं उन्होने कहा कि काफी समय से चंबा में कृषि विभाग मे कृषि उपनिदेशक का पद खाली चल रहा है जिसके लिए सरकार द्वारा कभी गौर नहीं फरमाया गया न ही स्थानीय स्तर पर लोकप्रिय विधायक द्वारा आवाज उठाई गई।

अगर ये वैन चंबा में अलग अलग जगहों पर जाकर किसानों की जमीनों की टैस्टिंग करती तो किसानों को भी पता चल जाता कि उनकी जमीनों के लिए कौन सा उर्वरक फायदेमंद है या उसे खेती मे कौन-सा बीज उपयोग करना चाहिए। इस समय किसानों को बेमौसमी सब्जी व अन्य कृषि फसलों को उगाने के बारे मे प्रेरित करने के लिए कृषि विज्ञान केंद्र सरू द्वारा भी न के बराबर कार्यशालाएं आयोजित की जा रहीं है जो कि चंबा के लिए आवश्यक तौर पर चिंता का विषय है।

उन्होने सरकार से मांग उठाते हुए कहा कि मोबाइल टैस्टिंग वैन, कृषि बीज विपणन केंद्र मे समय पर बीजों की उपलब्धता सुचारु करने व जल्द कृषि उपनिदेशक के पद पर नियुक्ति संबधित व्यवस्थाओं को ठीक किया जाना चाहिए ताकि चंबा के किसानों को कोई परेशानी न हो।

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

पिछला लेखशिमला ! कोविड ड्यूटी में लगे डॉक्‍टर व अधिकारी हड़ताल नहीं कर सकेंगे – हाईकोर्ट !
अगला लेखमशोबरा ! आशा कार्यकर्ताओं का बढ़ा वेतन शीघ्र किया जाए जारी, सौंपा मांगपत्र !