शिमला । कोरोना महामारी के संक्रमण की रोकथाम के लिए जनसाधारण का सहयोग भी आपेक्षित !

0
867
सांकेतिक चित्र
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

शिमला । हिमाचल प्रदेश सरकार व स्वास्थ्य विभाग वैश्विक कोरोना महामारी के संक्रमण की रोकथाम के लिए तमाम पर्याप्त संसाधनों का प्रयोग कर स्थिति को नियंत्रित किये हुए है ! इस स्थिति को यथासंभव नियंत्रण में रखने के लिए जनसाधारण का सहयोग भी आपेक्षित है ! विगत कुछ दिनों में प्राय: देखने में आया है कि आम जन कोरोना के प्रति लापरवाह व्यवहार अपनाए हुए भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर निर्दिष्ट दिशानिर्देशों को दर किनार कर रहें हैं, जिसके परिणाम घातक सिद्ध हो सकते हैं ! त्यौहारों, शादी व निजी समारोहों में लोग सामाजिक परस्पर दूरी और मास्क लगाने की आदत को नकार रहे हैं । हाल ही के दिनों में कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि हुई है, जिसमें अधिकाँश मामले इन्हीं समारोहों या आयोजनों के दौरान देखने में आये हैं !

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

यह जानकारी देते हुए सचिव (स्वास्थ्य) श्री अमिताभ अवस्थी ने बताया कि राज्य में इस समय 4,75,263 लोगों की कोविड-19 के प्रति जांच की जा चुकी है, जिसमें 32,197 लोग पॉजिटिव पाए गए| 24,706 पॉजिटिव रोगी चिकित्सीय परामर्श, संगरोध व दिशा निर्देशों के अनुपालन उपरान्त स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर चुके हैं| प्रदेश में 6980 सक्रिय रोगी विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों या घर पर संगरोध की स्थिति में चिकित्सकीय देखभाल में हैं । दुर्भाग्यवश 480 लोग कोरोना से जंग हार कर इस महामारी का ग्रास बने हैं । प्रदेश सरकार का यह प्रयास है कि मृत्यु दर को न्यून किया जाए| वर्तमान समय में कोरोना महामारी की वजह से होने वाली मौतों के आंकड़े बताते हैं कि अधिकांश मौते वृद्धजनों या उन लोगों की हुई है, जिन्हें कोई अन्य बिमारी जैसे कैंसर, मधुमेह, ह्रदय रोग, उच्च रक्तचाप अथवा सहरुगणता है । कुल 4,75,263 मामलों की जांच में यह देखने में आया है कि करीबन 70% लोग सहरुगणता वाले हैं| सचिव (स्वास्थ्य) श्री अमिताभ अवस्थी ने ऐसे सभी लोगों, जो कि 60 साल की आयु से अधिक हैं या किसी अन्य बीमारी से भी ग्रसित हैं, को अधिक सतर्क रहने के लिए आग्रह किया । इस समय आवश्यकता मात्र सजगता बरतने, अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को सुदृढ़ करने, शीघ्र चिकित्सकीय परामर्श प्राप्त करने और सरकार द्वारा सुझाये दिशा निर्देशों के अनुपालन करने की है । इसके साथ ही सकारात्मक विचारों के साथ जीवन यापन करना आवश्यक है ।
सचिव (स्वास्थ्य) ने जनसाधारण से आह्वान किया कि कोरोना वायरस से खुद को बचाने के लिए स्वच्छता का पूरा ख्याल रखें। प्रत्येक व्यक्ति के मध्य निर्दिष्ट दो गज के फासले को बरकरार रखते हुए परस्पर सामाजिक दूरी के सिद्धांत को बनाये रखें । कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथों को सैनिटाइजर या फिर साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं, जब आप बाहर से घर वापस आए तो सबसे पहले अपने हाथ धोएं। अगर आप बाहर है तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। सामान्यतः मास्क या फेस कवर से मुंह ढकें। इसके साथ ही छींक आते समय टिशू से मुंह को ढक लें। जिससे कोई दूसरी व्यक्ति इससे संक्रमित न हो। उपयोग की गई टिशू को तुंरत किसी कागज़ या अखबार में लपेट कर डस्टबीन में डाल दें और अपने हाथ को धो लें। खांसी या जुकाम वाले व्यक्ति से बातें करते या मिलते समय उससे करीब दो गज की दूरी बनाकर रखें। संभव हो तो सामाजिक आयोजनों में जाने से परहेज करें| बुखार, खांसी, जुकाम हो या फिर सांस लेने में समस्या को हलके में न लें, तुरंत हेल्पलाइन नम्बर -104 से सपंर्क करें अथवा ई-संजीवनी ओ.पी.डी. सेवा का लाभ उठायें|

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखशिमला ! प्रेस क्लब की ओर से 28 नवम्बर को रिज मैदान पर रक्तदान शिविर लगाएगा ।
अगला लेखशिमला 20 नवम्बर 2020 फल और सब्जियों के दाम !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें