शिमला ! भारत में सडक़ हादसों के कारण प्रतिदिन होती है 400 मौतें – डा. प्रदीप अग्रवाल !

देश में प्रतिवर्ष डेढ लाख लोग होते हैं सडक़ हादसों का शिकार - डा. आनंद जिंदल , ट्रैफिक से सबंधित मौतों में 83 प्रतिशत का कारण सडक़ हादसे

0
804
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

शिमला ! सडक़ हादसों के रुझान में हो रही वृद्धि और घुटनों के जोड़ बदलने सबंधी सर्जरी बारे जागरूकता पैदा करने के लिए पारस सुपर स्पैशिएलिटी अस्पताल पंचकूला के माहिर डाक्टरों की एक टीम ने एक प्रैस कांफ्रेंस को संबोधित किया। डाक्टरों की टीम में आर्थोपैडिक और ज्वाइंट रिप्लेसमैंट सर्जरी विभाग के चेयरमैन डा. प्रदीप अग्रवाल और कंस्लटैंट डा. आनंद जिंदल शामिल थे।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

डा. प्रदीप अग्रवाल ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे देश में ट्रैफिक से सबंधित मौतों में 83 प्रतिशत सडक़ हादसों कारण होती हैं। उन्होंने कहा कि हादसें पश्चात घायलों की जान बचाने के लिए प्रथम 60 मिनट बहुत महत्त्वपूर्ण होते हैं और इसको गोल्डन आवर (सुनहरी घण्टा) कहा जाता है। डा. अग्रवाल ने कहा कि यदि हादसा ग्रसत मरीज समय पर सही जगह (अस्पताल) पहुंच जाए तो उसकी जान बचाई जा सकती है। उन्होंने बताया कि भारत में सडक़ हादसों कारण प्रतिदिन 400 मौतें हो जाती हैं। उन्होंने कहा कि तेज रफतार और सीट बैल्ट न डालना, सिर की चोट के बड़े कारण हैं। डा. अग्रवाल ने कहा कि स्कूटर, मोटर साइकल पर हैल्मेट डालने के साथ 42 प्रतिशत मौतें घटाई जा सकती हैं।

हमारे देश में अधिक आयु में दूसरी बड़ी समस्या आस्टीयोथराईटिस (हड्डियां भुरना) की है, जो हड्डियों के रोगों की एक गम्भीर समस्या है। यह बीमारी अपंगपने का बड़ा कारण बनती जा रही है और प्रत्येक वर्ष 18 मिलियन (एक करोड़ 80 लाख) लोग इसका शिकार हो रहे हैं। डा. अग्रवाल ने बताया कि आगामीं 10 वर्षों में भारत जोड़ बदलने की सर्जरी के केसों में विश्व में प्रथम नम्बर पर होगा।

उन्होंने बताया कि हमारे देश में प्रतिवर्ष किन्हीं 10 लाख लोगों को जोड़ बदलवाने की आवश्यकता होती है, परंतु 30,000 से 40,000 तक ज्वाइंट रिप्लेसमैंट सर्जरी होती हैं। डा. प्रदीप अग्रवाल का हड्डियों की सर्जरी के क्षेत्र में 32 वर्ष का तुजुर्बा है और वह 40,000 आप्रेशन कर चुके हैं। डा. आनंद जिंदल ने इस मौके संबोधित करते हुए कहा कि पारस अस्पताल पंचकूला में हादसों से सबंधित मरीजों को तुरंत उपचार के लिए सभी सुविधाएं हैं और यहां पोली ट्रॉमा केसों के उपचार के लिए डाक्टरों की टीम हर समय उपस्थित होती है।

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखसोलन ! वेस्टर्न सिडनी विश्वविद्यालय के साथ ऑनलाइन कार्यक्रम लॉंच !
अगला लेखशिमला ! अज्ञात शवों की पहचान के लिए भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण अपने डेटाबेस के प्रयोग की अनुमति दें !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें