चम्बा ! बनीखेत लंगेरा मार्ग पर ब्रंगाल के पास सड़क दे रही हादसों को न्यौता !

0
1701
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

चम्बा ! बनीखेत लंगेरा मार्ग पर ब्रंगाल के पास सड़क हादसों को न्यौता दे रही है। पिछले एक साल पहले यहाँ पर एक कार जलाशय में समा चुकी है जिसकी वजह से आज तक चालक ओर कार का कोई भी सुराग नही लग पाया है और ऐसी जगहों पर विभाग का लापरवाह रवैया चिंतनीय है।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

हिमाचल सरकार के बड़े बड़े विकास के दावे आपको केवल नेताओ की चुनावी रैली मे ही सुनने को मिलते है। लेकिन जमीनी हकीकत इससे कोसो दूर है। आप यह भी जानते है कि सड़के हमारे जीवन में कितना महत्व रखती है अगर इनका अच्छे से रखरखाव न किया जाए तो यह किसी भी बड़े हादसे को न्योता देती है और कई बार तो कई परिवारों के चिराग तक बुझा देती है और इसके लिये विभाग के अधिकारियों की बहुत अहम भूमिका रहती है पर क्या यह अधिकारी अपने काम को पूरी ईमानदारी से करते है।

इन्ही बातो की हक़ीक़त जानने के लिए लंगेरा पठानकोट मुख्य मार्ग पर गाँव ब्रंगाल ओर तलेरू के बीच पहुची जहाँ करीब 1 साल पहेल लैंड स्लइड हुआ था ओर इस लैंडस्लाइड से करीब 100 मीटर सड़क मार्ग का हिस्सा बुरी तरह से तहसनहस हो गया था और सड़क के किनारे लगे पेराफीट भी मलवे के साथ जलाशय में समा गए थे इसके चलते इस जगह पर एक कार हादसा भी हुआ था कार चालक समेत कार जलाश्य में समा गई थी जिसका अभी तक कोई पता नही चल पाया है।

यह सड़क ज़िला चंबा के लोक निर्माण विभाग सब डिवीज़न भलेई के अंतर्गत आता है और विभाग की यहाँ बड़ी लापरवाही देखने को मिल रही है पिछले 1 साल पहले हुए लैंड स्लाइड से खराब हुए हिस्से को आज तक विभाग की और से ठीक नही किया गया है। लैंडस्लाइड होने से आए दिन यहाँ पर पत्थर गिरते रहते है और यहां से वाहन में बैठे लोग अपनी जान को जोखिम में डाल कर इस हिस्से को पार करते है।

विभाग की ओर से कोई इस जगह पर काम करने की कोई भी रुचि दिखाई नही दे रही है ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि लैंड स्लइड को रोकने के लिए अभी तक यहां न तो कोई वेस्टवाल लगाई गई है ओर ना ही इस जगह पर क्रैशवेरियर लगाए गए है। यहां कोई अप्रिय घटना घटती है तो इसका जिम्मेवार कौन होगा।आपको यह भी जानकर बहुत हैरानी होगी की लैंड स्लइड वाली जगह से सहायक अभियंता भलई का आफिस मात्र 3 किलोमीटर की दूरी पर है।

अगर साहब टहलते हुए भी आए तो इस जगह पर पहुच सकते है। लेकिन फिर भी इस कि तरफ कोई ध्यान नही दे रहा। जहाँ पर इनकी लापरवाही से किसी की जान भी जा सकती है ओर तब इसकी जबाबदारी अधिकारियों की ही होगी ।

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखशिमला ! छात्र अभिभावक मंच ने उच्चतर शिक्षा निदेशक कार्यालय के बाहर जोरदार प्रदर्शन !
अगला लेखशिमला ! डी.डी.यू. पर डाल दिया 4 जिलों का बोझ, सरासर गलत फैसला – यंशवत  छाजटा !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें