कोविड-19 के संक्रमण से निपटने के लिए अब सरकार आर्मी मेडिकल अफसरों की मदद लेगी।

0
996
सांकेतिक चित्र
- विज्ञापन (Article Top Ad) -

शिमला। हिमाचल प्रदेश में कोविड-19 के संक्रमण से निपटने के लिए अब सरकार आर्मी मेडिकल अफसरों की मदद लेगी। सरकार ने सैन्य और अर्धसैनिक बलों से सेवानिवृत्त या रिलीज हुए सभी चिकित्सा अधिकारियों, संकाय सदस्यों और पैरा मेडिकल स्टाफ को चिकित्सा अधिकारी और पैरा मेडिकल स्टाफ के पदों पर नियुक्ति का प्रस्ताव दिया है। यह प्रस्ताव 1 अप्रैल 2020 से अगले आदेशों तक प्रभावी रहेगा।उनके पास समकक्ष या एनालॉग पद पर काम के अनुभव के साथ इन पदों पर नियुक्ति के लिए निर्धारित न्यूनतम शैक्षणिक, व्यावसायिक योग्यता और क्वालिफाइंग सेवा होनी चाहिए।

- विज्ञापन (Article inline Ad) -

अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य द्वारा जारी आदेश के अनुसार यह प्रस्ताव पूरी तरह से अस्थायी आधार पर एक स्टॉप गैप व्यवस्था के रूप में है और बिना किसी नोटिस दिए या कोई कारण बताए बिना समाप्त या वापस लिए जा सकता है। उन्हें पद के न्यूनतम वेतन बैंड और ग्रेड वेतन के बराबर निर्धारित मासिक वेतन या मानदेय का भुगतान किया जाएगा।हिमाचल के राशन कार्ड उपभोक्ताओं को अब सस्ता राशन लेने के लिए मोबाइल फ़ोन पर मैसेज आएगा। जब तक मैसेज नहीं आएगा, उपभोक्ता राशन लेने नहीं आएंगे। कोरोना महामारी को लेकर प्रदेश में लागू कर्फ्यू के चलते यह व्यवस्था की गई है। प्रतिदिन डिपो में 30 से 35 लोग ही राशन के लिए आएंगे। प्रति घर से एक व्यक्ति डिपो में राशन के लिए आएगा। डिपो से यह राशन भी निर्धारित समय पर उठाना होगा। प्रदेश सरकार ने व्यवस्था की है कि राशन लेते वक्त लोग आपस में दूरी रख सकें।

इसके लिए एक-एक मीटर की दूरी पर गोले लगाए गए हैं। इसमें व्यक्ति खड़ा रहकर अपनी बारी का इंतजार करेगा। खाद्य आपूर्ति सचिव अमिताभ अवस्थी ने कहा कि राशन लेने के लिए उपभोक्ताओं के मोबाइल पर मैसेज आएगा

- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखमुख्यमंत्री ने देशवासियों को राहत पैकेज देने के लिए केंद्र का धन्यवाद किया !
अगला लेखसुन्नी ! बंदरों ने झपट्टा मारा , महिला घायल !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें