मंडी की मुरारी धार को पर्यटन की दृष्टि से देश के मानचित्र पर लाने की जरूरत !

0
564
- विज्ञापन (Article Top Ad) -
मंडी की बल्ह घाटी में बसे मुरारी देवी मंदिर की. मुरारी देवी मंदिर का इतिहास पांडवों के अज्ञातवास से जुड़ा है. अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण किया था. साथ ही मंदिर में मौजूद माता की मूर्तियां उसी समय से स्थापित की गई हैं.
इस मंदिर का इतिहास दैत्य मूर के वध से जुड़ा है. कहा जाता है कि प्राचीन काल में पृथ्वी पर दैत्य मूर को घोर तपस्या करने पर ब्रह्मा ने वरदान दिया कि तुम्हारा वध कोई भी देवता, मानव या जानवर नहीं करेगा, बल्कि एक कन्या के हाथों से होगा.
 
घमंडी मूर दैत्य अपने आप को अमर सोच कर सृष्टि पर अत्याचार करने लगा. सभी प्राणियों के भगवान विष्णु से मदद मांगने पर दैत्य मूर और भगवान विष्णु के बीच युद्ध हुआ, जो लंबे समय तक चलता रहा. मूर दैत्य को मिला वरदान याद आने पर भगवान विष्णु हिमालय में स्थित सिकन्दरा धार पहाड़ी पर एक गुफा में जाकर लेट गए. मूर उनको ढूंढता हुआ वहां पहुंचा. उसने भगवान के नींद में होने पर हथियार से वार करने का सोचा. ऐसा सोचने पर भगवान के शरीर की इन्द्रियों से एक कन्या पैदा हुई, जिसने मूर दैत्य को मार डाला. मूर का वध करने के कारण भगवान विष्णु ने उस दिव्या कन्या को मुरारी देवी के नाम से संबोधित किया.
 
 
एक अन्य मत के अनुसार भगवान विष्णु को मुरारी भी कहा जाता है, उनसे उत्पन्न होने के कारण ये देवी माता मुरारी के नाम से प्रसिद्ध हुईं और उसी पहाड़ी पर दो पिंडियों के रूप में स्थापित हो गईं, जिनमें से एक पिंडी को शांतकन्या और दूसरी को कालरात्री का स्वरूप माना गया है. मां मुरारी के कारण ये पहाड़ी मुरारी धार के नाम से प्रसिद्ध हुई. मंदिर के पुजारी जगदीश शर्मा ने कहा कि वे पिछले सात साल से मंदिर में पुजारी का कार्य कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अज्ञातवास के समय पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण किया था. साथ ही मंदिर में मौजूद माता की मूर्तियां उसी समय से स्थापित की गई है.
 
 
मंदिर में दर्शनों के लिए कतार में खड़े श्रद्धालु !!
 
वर्ष 1992 में इस क्षेत्र के लगभग एक दर्जन गांव के लोगों ने एक कमेटी का गठन किया. इसके बाद इस स्थल में भले ही विकास को पंख मंदिर कमेटी ने लगाए हैं, लेकिन सरकार के इस मंदिर को पर्यटन की दृष्टि से निखारने की दिशा में काम करने पर मुरारी धार पर्यटन की दृष्टि से उभरेगी और स्थानीय लोगों को रोजगार की भी अपार संभावनाएं बढ़ेंगी. यहां हर साल 25-26-27 मई को तीन दिवसीय मेला आयोजित किया जाता है. इसमें कुश्ती प्रतियोगिता एक बड़ा आकर्षण का केंद्र रहती हैं, जिसमें बाहरी राज्यों के पहलवान भी भाग लेते हैं. बता दें कि मंदिर सराय में एक हजार से अधिक श्रद्धालुओं के ठहरने की व्यवस्था है.
- विज्ञापन (Article Bottom Ad) -
पिछला लेखलाहौल ! दो महीने के लिए अटल टनल से लोगों का आना-जाना बंद !
अगला लेखबिलासपुर ! केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री ने एम्स का किया निरीक्षण !

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें